आरंभ एक पैन-इंडिया यानी भारत समर्थित पीसी है, जिसका इस्तेमाल शिक्षा की पहल के लिए विशेष रूप से किया जाता है, ताकि तकनीकी की शक्ति के माध्यम से सीखने की प्रक्रिया को बढ़ावा दिया जा सके. यह इस तरह डिज़ाइन किया गया है कि माता-पिता, शिक्षक और बच्चे डिजिटल इंडिया की ज़मीन पर मज़बूती से कदम रख सकें. इस पहल का उद्देश्य है माता-पिता, शिक्षकों और विद्यार्थियों को आपस में जोड़कर उन्हें आवश्यक प्रशिक्षण दिलवाना, ताकि स्कूल और घर दोनों जगहों पर पीसी का बेहतर इस्तेमाल किया जा सके.

जब पीसी खरीदने और उसका इस्तेमाल करने की बात आई, तो इस मामले में हमने डेल के तहत विश्लेषण करने के बाद यह महसूस किया कि भारत में पीसी की पहुंच 10% से भी कम है. हमने देखा है कि माता-पिता और शिक्षक शिक्षा के क्षेत्र में पीसी की महत्ता को एकमत से स्वीकार करने लगे हैं. लेकिन उन्हें ज्ञान की कमी का सामना करना पड़ रहा है – ज्ञान की कमी यानी बेहतर प्रशिक्षण के लिए पीसी का इस्तेमाल करने के ज्ञान की कमी .

हमारा विश्वास है कि माता-पिता, बच्चों और शैक्षणिक संस्थानों को एक साथ प्रशिक्षित और प्रमाणित करते हुए उन्हें सक्षम बनाकर इसका समाधान किया जा सकता है. हम माता-पिता और शिक्षकों के लिए कम्प्यूटर की जानकारी आसानी से उपलब्ध करवाकर पीसी के ज़रूरी उपयोग का कौशल सिखाते हैं, ताकि आख़िर में बच्चों को लाभ मिले.

सृजनात्मकता, विवेचनात्मकता और जटिल समस्याओं का समाधान ये तीन अभीष्ट कौशल हैं आज के ‘डिजिटल भारतीयों’ के लिए और आरंभ इन तीनों कौशलों को तकनीकी की सहायता से पूर्ण करने का हमारा प्रयास है. इस पहल के तहत, हम अब तक अपने डेल चैम्प्स स्कूल संपर्क कार्यक्रम के माध्यम से लगभग 15 लाख विद्यार्थियों को जोड़ चुके हैं. एनआईआईटी के सहयोग से हमन 70 शहरों में 5,000 से ज़्यादा स्कूलों के 1,25,000 शिक्षकों को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा है और इसके अलावा हम डेल डिजिमॉम्स कार्यक्रम के तहत 4,00,000 मांओं का सशक्तीकरण कर रहे हैं.

आइए, हमारे प्रयास से जुड़िए – आइए, शिक्षा के एक नए मार्ग का आरंभ करें.